कोई भगवान कहता है

कोई भगवान कहता है
कोई भगवान कहता है
किसी ने अल्लाह लिखा
कोई भगवान कहता है
किसी ने अल्लाह लिखा
मेरे लिए खुदा से भी ऊपर है वो
मैंने बिस्मिल्लाह भी मां लिखा।
चार लाइनें पेश करता हूँ
यह उनके लिए है
जो घर से बहुत दूर रहते हैं
किसी भी वजह से
तो... गौर फरमाइएगा कि
मैं हर रोज

Check this out

मैं हर रोज दरवाजे पे तेरा इंतजार रखके जाता हूँ
मैं हर रोज दरवाजे पे तेरा इंतजार रखके जाता हूँ
तू आज आइ होगी लौट कर मां
इस उम्मीद मे मैं जल्दी घर आता हूँ
तू आज आइ होगी लौट कर मां
इस उम्मीद मे मैं जल्दी घर आता हूँ
तूझे ना पाकर मैं नहीं टूटता
मेरी उम्मीद टूट जाती है
तूझे ना पाकर मैं नहीं टूटता
मेरी उम्मीद टूट जाती है
मेरा हौंसला देख
फिर उसी इंतजार को मैं अपने सिराहने सुलाता हूँ
फिर उसी इंतजार को मैं अपने सिराहने सुलाता हूँ
और कोई खास लगाव नहीं है
मुझे अपने इन किराए की दीवारों से
कोई खास लगाव नहीं है
मुझे अपने इन किराए की दीवारों से
जहाँ मैंने मां की तस्वीर लगाइ है
उसी कमरे को घर बुलाता हूँ
जहाँ मैंने मां की तस्वीर लगाइ है
उसी कमरे को घर बुलाता हूँ
और कोई लड़ता हुआ ना देख ले
मुझे अपने आप से ही कभी
कोई लड़ता हुआ ना देख ले
मुझे अपने आप से ही कभी
इसलिए कभी खुद छुप जाता हूँ
तो कभी घर का आइना छुपाता हूँ
हर रोज मैं दरवाजे पे तेरा इंतजार रख के जाता हूँ
तू आज आइ होगी मां
इस उम्मीद मे मैं जल्दी घर आता हूँ
ये चार लाइनें हैं
मैं उन लोगों को डेडिकेटेड करना चाहूंगा
जिनके लिए त्योहार का मतलब
दफ्तर की छुट्टी होती है और
इससे ज्यादा और कुछ नहीं होता है
हर दिन नोर्मल होता है
बस एक दिन की छुट्टी बढ जाती है
तो सुनना कि
अब कोई त्यौहार मुझसे मिलने नहीं आता है
मेरे किराए के घर में
अब कोई त्यौहार मुझसे मिलने नहीं आता है
मेरे किराए के घर में
मेरी मां दिये सजाकर गांव में मेरा इंतज़ार करती है
मेरी मां दिये सजाकर गांव में मेरा इंतज़ार करती है
और तरक्की मिल जाती है इस शहर में मुझे हर रोज़
खुशी नहीं मिलती
तरक्की मिल जाती है इस शहर में मुझे हर रोज़
खुशी नहीं मिलती
मेरी पीठ
मेरी पीठ बाप के उस शाबाशी वाले
थपकी का इंतजार करती है
अब कोई त्यौहार मुझसे मिलने नहीं आता है
मेरी मां गांव में दिये सजाकर मेरा इंतज़ार करती है
कोई भगवान कहता है  कोई भगवान कहता है  किसी ने अल्लाह लिखा  कोई भगवान कहता है

_--------------------------------------------------------------------------

ایک تبصرہ شائع کریں

0 تبصرے

Featured Post

Mirza ghalib fikar insaa par tri hasti se